मंगलवार, 25 जुलाई 2017

सरल मृदुभाषी राष्ट्रपति : रामनाथ कोविंद

 By:Asharfi Lal Mishra

  
Asharfi Lal Mishra










                                                                     
                                          (राष्ट्रपति के पद पर  कार्य करते हुए  रामनाथ कोविंद )
  
 (भारत के  उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जे एस खेहर  रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति की शपथ दिलाते हुए )
रामनाथ कोविंद  (जन्म: १ अक्टूबर १९४५) भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो २० जुलाई २०१७ को भारत के १४वें राष्ट्रपति निर्वाचित हुए। २५ जुलाई २०१७ को उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जे एस खेहर ने भारत के राष्ट्रपति के पद की शपथ दिलायी। वे राज्यसभा सदस्य तथा बिहार राज्य के राज्यपाल  रह चुके हैं ८ अगस्त २०१५ को बिहार के राज्यपाल के पद पर उनकी नियुक्ति हुई। उन्होनें संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा भी तीसरे प्रयास में ही पास कर ली थी।
  
जन्म 
१ अक्टूबर १९४५ 
जन्म स्थान 
ग्राम -परौंख ,तहसील -डेरापुर ,जिला -कानपुर  (वर्तमान में कानपुर देहात जिला
जाति 
कोरी (कोली )उत्तर प्रदेश में अनुसूचित जाति के अन्तर्गत। 
पिता का नाम 
मैकू कोविंद 
माता का नाम 
फूलवती कोविंद 
बचपन में घर में पुकारने का नाम 
लल्ला 
पत्नी 
सविता कोविंद (विवाह :३० मई १९७४ )
बच्चे 

  • पुत्र :प्रशांत कुमार (विवाहित )
  • पुत्री :स्वाती 

शिक्षा 
*प्राथमिक शिक्षा  :  प्राइमरी स्कूल परौंख , तहसील डेरापुर , कानपुर (वर्तमान में  डेरापुर, कानपुर देहात )
*पूर्व माध्यमिक शिक्षा :पूर्व माध्यमिक विद्यालय खानपुर ,तहसील डेरापुर , जिला -कानपुर 
*माध्यमिक शिक्षा :बी  एन एस डी इण्टर कॉलेज कानपुर से हाई स्कूल और इण्टरमीडिएट  परीक्षा संस्थागत छात्र के रूप में उत्तीर्ण की (यू पी बोर्ड इलाहाबाद )
*उच्च शिक्षा :वाणिज्य स्नातक और विधि स्नातक की उपाधियाँ डी ए वी कॉलेज कानपुर में शिक्षा ग्रहण करते हुए कानपुर विश्वविद्यालय ,कानपुर से प्राप्त कीं। 

वकालत 

  • १९७१ में दिल्ली की बार कॉउंसिल में वकील के तौर पर शुरुआत की। 
  • १९७७ से १९७९ तक दिल्ली हाई कोर्ट में केंद्र सरकार के वकील रहे। 
  • १९७८ में सुप्रीम कोर्ट के वकील बने। 
  • १९८० से १९९३ तक सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार की स्टैंडिंग कॉउंसिल में रहे। 
राजनीति में 

  • १९७७-७८ तक मोरारजी देसाई सरकार में वह उनके निजी सचिव रहे। 
  • १९९१ में भाजपा में शामिल हुए। 
  • १९९४ में पार्टी ने उन्हें उत्तर प्रदेश से राज्य सभा सदस्य मनोनीत किया। 
  • २००० में भाजपा ने पुनः उत्तर प्रदेश से राज्य सभा का सदस्य मनोनीत किया। 
  • २००७ में भोगनीपुर से चुनाव लड़ा लेकिन जीत नहीं सके। 
प्रमुख संसदीय समितियों के सदस्य
  • अनुसूचित जाति /जनजाति मंत्रालय के कल्याण की संसदीय समिति 
  • आंतरिक मामलों के मंत्रालय की संसदीय समिति 
  • पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्रालय की संसदीय समिति 
  • सामाजिक न्याय व सशक्तीकरण मंत्रालय की समिति 
  • कानून व न्याय मंत्रालय की संसदीय समिति  

आसीन पद 

  • राज्यसभा सदन समिति के चेयरमैन ,भाजपा प्रवक्ता 
  • १९९८ से २००२ तक भाजपा दलित मोर्चा और अखिल भारतीय कोली समाज के अध्यक्ष 
  • लखनऊ स्थित बी आर अम्बेडकर विश्ववद्यालय की प्रबन्ध समिति के सदस्य 
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट कोलकाता के बोर्ड ऑफ़ गवर्नर  सदस्य रहे। 
प्रमुख उपलब्धियाँ 
  • २००२ में संयुक्त राष्ट्र में भारत का प्रतिनिधितव किया और संयुक्त राष्ट्र सभा को सम्बोधित किया। 
  • राज्यसभा सदस्य के रूप में शैक्षिक यात्रा के लिए थाईलैंड ,नेपाल,पाकिस्तान,सिंगापुर,जर्मनी,स्विट्जरलैंड,फ़्रांस,ब्रिटैन और अमेरिका का दौरा  किया।
updated on 24/06/2021
कानपुर आगमन 
राष्ट्रपति बनने के बाद प्रथम बार कानपुर आगमन हो रहा है। १५ वर्षों बाद  स्पेशल प्रेसिडेंशियल ट्रैन चलेगी। उसी से ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद २५ जून ,२०२१ को कानपुर आगमन हो रहा है। २७ जून २०२१  को  अपने पैतृक निवास परौंख जायेंगे।[1]


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

इक दिन ऐसा आयेगा , पानी पेट्रोल बन जायेगा।

द्वारा : अशर्फी लाल मिश्र                          इक  दिन ऐसा  आयेगा,                        पानी पेट्रोल बन जायेगा।  यों तो कहने में ज़रा अ...